यादें

I would have not thought how beautiful a thought is, until I realized how their turning into actions matter. Thanks to all for your lovely wishes. Here’s to my friends who remember me still and know me enough to not mind my faults.

बड़ी अनोखी सी हैं ये चुलबुली मीठी यादें
इन्हें रखना सम्हाल के बड़ा कठिन है

तस्वीर बना लूं गर इनकी तो शायद
कम पड़ेंगे आले उन्हें सजाने के

संजोना चाहूँ जो सपनों में
तो शायद वक़्त बेवक्त टूट जाएँ सारे

रख लूं सम्हाल के मुट्ठी में तो
शायद धूल से फिसल जाएँ

पहलू में छुपा लूं जो इन धडकनों के
थम न जाएँ इन साँसों की तरह कहीं ये भी

शब्दों में बयान करके ही आज इन यादों को
उकेर के इन चंद लकीरों से
आज रख लिया मैंने सम्हाल कर ज़हन में मेरे

Advertisements

Leave A Reply...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s